शेयर बाजार में IPO मतलब क्या होता है?

आजकल हमारे आसपास लोग IPO को लेकर काफी बाते करते दिखाई देते है लेकिन कुछ लोगो को इसके बारे में कोई जानकारी नही है. जबकि आज IPO के बारे mobile internet पर आसानी से जानकारियाँ मिल जाती है तो अगर आप भी शेयर बाज़ार में कदम रखना चाहते है और IPO कैसे खरीदे इसके बारे में जानना चाहते है, तो ये लेख आपके लिए बहुत काम आने वाला है. इसके माध्यम से आपको बहुत सी ऐसी बाते सीखने को मिलेगी जो आपके निवेश करने में काम आएगी. आइये जानते है IPO और शेयर से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी. 

IPO का मतलब क्या है 

IPO (Initial Public Offering) जब भी कोई कंपनी पब्लिक से पैसा उठाती चाहती है तो इसे इसके लिए stock market में list होना पड़ता है. उसी को IPO कहते है. बहुत से लोग आईपीओ के अंदर निवेश तो करना चाहते है लेकिन उन्हें इसका पूरा process समझ नही आता है और इसी वजह से वे इसमें invest नही कर पाते है. 

कोई भी कंपनी बाज़ार में अपना IPO कैसे लाती है ?

एक कंपनी को stock market में list होने से पहले कुछ नियमो का पालन करना पड़ता है और साथ ही इसके लिए उसे कुछ जरूरी दस्तावेज की जरूरत भी पडती है. यदि कोई कपनी पहली बार पब्लिक से फंड रेज करना चाहती है तो उसे Sebi यानी stock Exchange Board of India, जोकि Share Market की हर गतिविधियों पर निगरानी रखता है उसके द्वारा बनाये गये बहुत सारे नियमो का पालन करना होता है. और ये नियम क्या है आइये जानते है.

एक merchant Banker की तलाश करना 

एक IPO process के लिए सबसे जरुरी merchant banker होता है. क्योंकि ये वो सभी दस्तावेज बनाने में मदद करेगा जो एक कंपनी को चाहिए होते है. Marchant bank इस बात की verification करता है कि IPO लाने वाली company ने सभी तरह के क़ानूनी नियमो का पालन किया है और इसके लिए कंपनी को Diligence Certificate issue करती है. 

Merchant banker DRHP (Draft Red Herring Prospectus ) बनाने में मदद करती है. जोकि stock market में list होने के लिए एक बहुत जरुरी दस्तावेज होता है. एक Merchant banker शेयर को underwrite करती है price Band तय करती है. इसके अलावा IPO आने से पहले promotion marketing करती है. एक merchant banker चाहे तो share को fixed prize Book Building Process के जरिये issue कर सकता है. यहाँ Book Building process में शेयर की एक max value और minimum value रख दी जाती है. और इस process में अंत में जो price तय की जाती है उसे शेयर का cut of price कहा जाता है. 

यदि हम एक company के IPO के प्रोसेस की पूरी बात करे तो कंपनी के लिए सबसे पहले एक merchant banker को ढूंढना फिर Sebi के पास IPO की सूचि के लिए Registration करवाना और Sebi का Approval हासिल करना और सबसे जरुरी DRHP तैयार करना. DRHP एक बहुत जरूरी दस्तावेज होता है जिसमे कंपनी की वह सारी information होती है जो कि एक investor को पता होनी चाहिए जैसे कि कंपनी के LOT size के बारे में जानकारी. DRPH के अंदर IPO की पूरी जानकारी होती है जैसे 

  • पब्लिक में कितने शेयर issue होंगे, 
  • कंपनी क्यों शेयर issue करना चाहती है  
  • कंपनी IPO से प्राप्त पैसे का इस्तेमाल कहाँ करेगी ?
  • कंपनी का Project Plan और future plan 
  • कंपनी के business का risk ratio 
  • कंपनी की पिछली साल की Financial statement 
  • कंपनी की management की जानकारी 
  • IPO कितने दिन के लिए है आमतौर पर ये 3 से 5 दिन के लिए होता हो और ज्यादा से ज्यादा 9 से 10 दिन के लिए होता है.

IPO और शेयर में क्या अंतर होता है?

IPO 

कोई भी कंपनी IPO के जरिये 5 से 7 शेयर नही देती है बल्कि इसमें जितने चाहे ऑफ़र दिए जा सकते है. IPO खरीदना एक तरह से किसी कंपनी के शेयर खरीदना ही है क्योंकि कंपनी IPO से पहले शेयर धारको के साथ निजी तौर पर कारोबार भी करती है और IPO के बाद शेयरों का नंबर भी बढ़ जाता है. कंपनी के कर्मचारियों को पुरस्कार भी मिलते है  

शेयर 

  • शेयर बाज़ार में लोग पैसा इन्वेस्ट करते है ताकि उन्हें अच्छा ख़ासा रिटर्न मिल सके. 
  • इसमें कोई सीमा नही होती है 
  • कंपनी ज्यादा लाभ कमाती है. 

IPO को कैसे खरीदा जा सकता है?

आप ऑनलाइन या ऑफलाइन जैसे चाहे IPO खरीद सकते है.

ऑनलाइन 

आप जेरोधा या फिर किसी अन्य IPO पोर्टल से इसके लिए Online Apply कर सकते है लेकिन हम यहाँ आपको SBI बैंक से IPO भरने का आसान तरीका बताने वाले है. 

  • नेट बैंकिंग पर लॉग इन करे 
  • अब आपके सामने पूरा menu आ जायेगा जैसे -my account, bill payment इत्यादि ऑप्शन आपके स्क्रीन पर आ जायेंगे. 
  • E सर्विस के option पर click करे.
  • Demat Service and ASABA के ऑप्शन पर क्लिक करे 
  • आपके सामने Demat Service, ASABA Service और Others के 3 ऑप्शन दिखाई देंगे .
  • आपको AASABA service में दिए गये IPO Equity पर क्लिक करना है. 
  • क्लिक करने के बाद Terms/Condition को Accept करे. 
  • आपके सामने IPO की पूरी लिस्ट खुल जाएगी और साथ में उनकी opening and closing date दिखाई देगी.
  • अपने मनपसन्द IPO को चुने और Go पर क्लिक करे और accept पर क्लिक कर दो.
  • Category आने पर Individual चुने. 
  • अब अपनी पूरी जानकारी भर दें जो स्क्रीन पर मांगी जा रही है.
  • Submit करे जिसके बाद IPO पेज खुल जायेगा और स्क्रीन पर IPO Successfully का मैसेज आ जायेगा.  

ऑफलाइन 

  • इसमें आपको फार्म भरना होगा और उसे अपने ब्रोकर या बैंकर के पास जमा करवाना पड़ेगा. 
  • आपके पास डीमैट अकाउंट होना चाहिए 
  • फार्म में मांगे जाने वाली सभी जानकारियों को भरने के बाद पैन कार्ड की एक कॉपी लगा दें. 

हमने क्या सीखा ?

उपर आपको IPO कैसे ऑफलाइन / ऑनलाइन आवदेन करना है इसके बारे में जानकारी दे दी गयी है. IPO आप कैसे बाज़ार में ला सकते है इसके लिए हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपके बहुत काम आने वाली है. IPO में जहाँ एकदम से शेयर value दुगुनी हो जाती है वहीँ एकदम घट भी सकती है. इसमें जितना फायदा है उतना नुकसान भी हो सकता है. ये एक तरह का रिस्क है जिसमे आपको फायदा और नुकसान दोनों के लिए पहले से तैयार रहना होगा.

Leave a Comment